हिन्दी एडल्ट जोक्स - Page 6


पत्नी: सुनो जी अब जब हम शादी के बंधन में बंध गए है तो हमें हमारी सेक्स लाइफ मैनज कर लेनी चाहिए।

पति: हाँ, बोलो मेरी जान।

पत्नी: तुम जब ऑफिस से आओ और मेरे बाल बने हुए देखो तो इसका मतलब है मैं सेक्स के मूड में हूँ।

अगर मेरे बाल हल्के बिखरे हुए और हल्के बने हुए हैं तो मैं सेक्स कर भी सकती हूँ और नहीं भी।

और अगर मेरे बाल बिगड़े हुए है तो मैं पूरा सेक्स के मूड में हूँ।

ठरकी पति का दिमाग खराब हुआ तो वह बोला ठीक है जानू लेकिन मेरी भी कुछ शर्ते हैं।

पति आगे बोला, "अगर मैं ऑफिस से एक पैग पीके आया तो मैं सेक्स के मूड में नहीं हूँ।"

अगर मैं 2 पैग पीके आया तो सेक्स कर भी सकता हूँ और नहीं भी।

लेकिन अगर 3 पैग पीके आया तो माँ चुदाने गया तेरे बालों का स्टाइल, चुदाई तो होकर ही रहेगी।

           

बच्चों मैं विज्ञान की बहुत बड़ी शिक्षक हूँ मेरे से कुछ भी पूछो।

यह सुन पप्पू ने हाथ उठा दिया और टीचर से बोला, "टीचर जब हम ऊँगली में अंगूठी पहन कर उतारते हैं तो वो जगह गोरी हो जाती है, ऐसे ही जब हम जुराब पहन कर उतारते हैं तो हमारे पैर गोरे हो जाते हैं, परन्तु जब हम चड्डी उत्तारते हैं तो हमारा लंड गोरा क्यों नहीं होता?"

टीचर ने पप्पू को मन ही मन गालियाँ दी और बोली, "बेटा वह इसीलिए क्योंकि तुम्हारा लंड हमेशा लड़कियों को बुरी नज़र से देखता रहता है।"

पप्पू ने फिर पूछा, "तो उससे हमारे लंड के काले होने का क्या ताल्लुक है?"

टीचर: भोसड़ी के, तूने कभी सुना नहीं क्या,....बुरी नज़र वाले तेरा मुंह काला।

           

सबसे पवित्र चीज है पुरुष का लिंग।

ये बहूत विनम्र है,
हमेशा झुका रहता है।

ये बहुत दयालु है,
लडकियों की गोद भरता है।

ये असली गुरु है,
जो अपने दो चेलों का साथ नही छोडता।

इसमें सादगी है,
ये छोटी सी गुफा में रात गुजार लेता है।

ये आदरणीय है,
नारी को देख कर खड़ा हो जाता है।

ये कोमल है,
चाहे कितना भी मरोड़ो इसमें से अमृत ही निकलता है, जिससे सृष्टि चलती है।

           

बिहार के कई गाँव में फिल्मों का प्रचार आज भी रिक्शा पर लाउड-स्पीकर लगा कर किया जाता है।
एक दिन ऐसी ही एक फिल्म का प्रचार हो रहा था। फिल्म का नाम था "बड़े घर की बहु रानी"।

"बड़े घर की बहु रानी" का मज़ा लीजिये,
दिन में चार बार, 9 से 12, 12 से 3, 3 से 6 और शाम 6 से 9।

           

एक मोटे आदमी ने न्यूज पेपर में विज्ञापन देखा। एक सप्ताह में 5 किलो वजन कम कीजिये।

उसने उस विज्ञापन वाली कंपनी में फोन किया तो एक महिला ने जवाब दिया और कहा, "कल सुबह 6 बजे तैयार रहिए।"

अगली सुबह उस मोटे ने दरवाजा खोला तो देखा कि एक बहुत खूबसूरत युवती जॉगिंग सूट और शूज पहने बाहर खड़ी है।

युवती बोली, "मुझे पकड़ो और जो मन आये वो करो ये कहकर युवती दौड़ पड़ी।"

मोटू भी उसके पीछे दौड़ा मगर उसे पकड़ नहीं पाया।

उस पूरे हफ्ते रोज मोटू ने उसे पकड़ने का प्रयास किया लेकिन युवती को न पकड़ पाया।

पर उसका 5 किलो वजन कम हो गया।

फिर मोटू ने 10 किलो वजन कम करने वाले प्रोग्राम की बात की।

अगली सुबह 6 बजे उसने दरवाजा खोला तो देखा कि पहले वाली से भी शानदार युवती जॉगिंग सूट और शूज में खड़ी है।

युवती बोली, "मुझे पकड़ो और जो मन मे आये करो।"

इस हफ्ते मोटू का 10 किलो वजन घट गया।

मोटू ने सोचा कि वाह क्या बढ़िया प्रोग्राम है। क्यों ना 25 किलो वजन कम करने वाला प्रोग्राम आजमाया जाए।

उसने 25 किलो घटाने वाले प्रोग्राम के लिए फोन किया।

तो महिला ने जवाब दिया और कहा कि क्या आपका इरादा पक्का है? क्योंकि ये प्रोग्राम थोड़ा कठिन है।

मोटू बोला: हाँ।

अगली सुबह 6 बजे मोटू ने दरवाजा खोला तो देखा कि दरवाजे पर जॉगिंग सूट और शूज पहने एक काला नीग्रो खड़ा था।

नीग्रो बोला, "अगर मैंने तुम्हे पकड़ लिया तो मैं तुम्हारे साथ जो मन आये वो करूँगा।"